इंट्राडे ट्रेडिंग क्या है (what is intraday trading in hindi)?

इंट्राडे ट्रेडिंग क्या है (What is intraday trading in Hindi): यह शेयर खरीदने का वह तरीका है; जिसमें ट्रेडर्स एक ही ट्रेडिंग दिन में शेयर खरीदते और बेचते हैं; एक ही दिन के भीतर प्रॉफिट और नुकसान करते हैं।

इंट्राडे ट्रेडिंग क्या है (what is intraday trading in hindi)?

इंट्राडे ट्रेडिंग क्या है (What is intraday trading in Hindi) और इसमें निवेश करने के फायदे:

शेयर मार्केट में पैसे बनाने के एक नहीं कई तरीके हैं; लेकिन उनमें से सबसे फास्ट और बहुत जल्दी पैसे बनाने का तरीका इंट्राडे ट्रेडिंग है; इस ट्रेडिंग में आप एक ही दिन के अंदर शेयर खरीदते और बेचते हैं;

इस शॉर्ट टर्म इंवेस्टमेंट स्ट्रैटजी की मदद से आप बाजार में चल रही उथल-पुथल से अच्छा प्रॉफिट बना सकते हैं।

शेयर मार्केट में इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे काम करती है?

इंट्राडे ट्रेडिंग में आप सुबह 9:15 से शाम 3:15 के बीच में किसी ऑनलाइन ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म, जैसे – एंजल वन (Angel One), अपस्टॉक्स (UpStox) या ज़ेरोधा (Zerodha) पर शेयर खरीदने या बेचने का ऑर्डर लगाते हैं; 

और तबतक आप अपने निवेश पर नज़र रखते हैं; जबतक आपको प्रॉफिट या नुकसान न हो जाए; आप प्रॉफिट या नुकसान होने पर शाम 3:15 से पहले अपने शेयरों को बेचकर मार्केट से बाहर निकल जाते हैं।

चलिए इसे उदाहरण के माध्यम से समझ लेते हैं; मान लीजिए, आपने सुबह 9:15 के बाद एक शेयर खरीदा जिसकी मार्केट वैल्यू ₹100 है; आप इस शेयर को आप अपने पास तब तक रखते हैं जब तक इसकी कीमत बढ़ न जाए; 

मतलब आपका खरीदा हुआ शेयर ₹100 से ज्यादा न हो जाए; और जैसे ही इसकी कीमत बढ़ती है; इसे शाम 3:15 से पहले बेचकर आप लाभ कमा लेते हैं।

इंट्राडे ट्रेडिंग करने के फायदे क्या-क्या हैं?

शेयर मार्केट में इंट्राडे ट्रेडिंग करने के एक नहीं कई फायदे हैं; इनमें से कुछ फायदे इस प्रकार हैं:

  • कम समय में हाई रिटर्न की संभावना: इंट्राडे ट्रेडिंग में सुबह 9:15 और शाम 3:15 के बीच में आप मार्केट में होने वाले उतार-चढ़ाव से बहुत कम समय में अच्छा प्रॉफिट बना सकते हैं; इस ट्रेडिंग में दो तरह से पैसा बनता है; पहला अगर मार्केट तेजी से बढ़ रहा है, तो आप शेयर खरीदते हैं; और यदि मार्केट नीचे गिर रहा है; तो आप शेयर बेचकर पैसे कमाते हैं; याद रखें इंट्राडे ट्रेडिंग करने के दो ऑप्शन मिलते हैं; Buy और Sell; आप अपनी स्ट्रैटजी के अनुसार कोई भी ऑप्शन चुन सकते हैं।
  • कम निवेश पूंजी की आवश्यकता: इंट्राडे ट्रेडिंग करने के लिए आपको बहुत ज्यादा पैसे की जरूरत नहीं पड़ती है; आप थोड़ा सा भी पैसा लगाकर इंट्राडे ट्रेडिंग शुरू कर सकते हैं; अगर आप किसी अच्छे ऑनलाइन प्लेटफॉर्म, जैसे – एंजल वन (Angel One), अपस्टॉक्स (UpStox) या ज़ेरोधा (Zerodha) पर ट्रेडिंग कर रहे; तो आपको अच्छा मार्जिन मिलता है; जिससे कम पैसे में भी आपकी ट्रेडिंग और आसान हो जाती है।
  • निवेश करने का शॉर्ट टर्म इंवेस्टमेंट स्ट्रैटजी: याद रखिएगा; इंट्राडे ट्रेडिंग एक शॉर्ट टर्म इंवेस्टमेंट स्ट्रैटजी है; इस स्ट्रैटजी के माध्यम से आप एक दिन के अंदर प्रॉफिट और नुकसान करते हैं; इसके लिए आपको बहुत ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़ता है।

इंट्राडे ट्रेडिंग के नुकसान क्या हैं?

जहां धूप वहीं छाँव, जहाँ दिन वहीं रात; ठीक इसी तरह से इंट्राडे ट्रेडिंग में भी जहांँ फायदा है; वहीं कुछ नुकसान भी हैं:

  • हाई रिस्क इंवेस्टमेंट: आप याद रखें; इंट्राडे ट्रेडिंग हाई रिस्क इंवेस्टमेंट स्ट्रैटजी है; इसलिए यहाँ मार्केट में होने वाले उतार-चढ़ाव से लाभ के साथ-साथ नुकसान होने की भी संभावना रहती है।
  • टेक्निकल एनालिसिस की समझ: अगर आप इंट्राडे ट्रेडिंग करके अच्छा प्रॉफिट बनाना चाहते हैं; तो आपको मार्केट की टेक्निकल और फंडामेंटल एनालिसिस की अच्छी समझ विकसित करनी होगी; वरना आप लाभ कमाने के लिए सिर्फ तुक्के बाजी करेंगे; और अपना नुकसान कर बैठेंगे।
  • समय की मांग: आप याद रखिएगा; इंट्राडे ट्रेडिंग में आपको समय देना होगा; आपको मार्केट पर कड़ी नज़र रखनी होगी; क्योंकि इंट्राडे ट्रेडिंग में पूरा खेल समय और मार्केट में होने वाले उतार-चढ़ाव का होता है; और इसी से पैसा बनता है।

इंट्राडे ट्रेडिंग शुरू करने के लिए जरूरी चीजें:

यदि आप इंट्राडे ट्रेडिंग शुरू करने का मन बना चुके हैं; तो इसके लिए आपको यहाँ बताई जा रही निम्नलिखित चीजों की जरूरत पड़ेगी:

  • एक डिमैट ट्रेडिंग अकाउंट: इंट्राडे ट्रेडिंग शुरू करने के लिए आपको एक ट्रेंडिंग अकाउंट खोलना होगा; इसके लिए आप किसी ब्रोकर या ऑनलाइन प्लेटफॉर्म की मदद ले सकते हैं।
  • एक अच्छा-सा ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म: इंट्राडे ट्रेडिंग में प्रॉफिट बनाने के लिए आपको एक अच्छे ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म की मदद से शेयर खरीदना और बेचना होगा।
  • मार्केट की अच्छी समझ: इंट्राडे ट्रेडिंग में सफल होने के लिए आपके पास मार्केट की अच्छी समझ होनी चाहिए; क्योंकि बिना मार्केट की समझ के पैसा बनता नहीं डूबता है।

इंट्राडे ट्रेडिंग में सफल होने के लिए सुझाव

अगर आप इंट्राडे ट्रेडिंग में हारना नहीं जीतना चाहते हैं; तो आपको यहांँ दिए जा रहे महत्वपूर्ण सुझावों का पालन करना होगा:

  • अपने रिस्क को मैनेज करें: याद रखें; इंट्राडे ट्रेडिंग एक जोखिम भरा इंवेस्टमेंट स्ट्रैटजी है; इसलिए ट्रेडिंग करते समय आपको अपने रिस्क मैनेजमेंट पर पूरा ध्यान देना चाहिए; आपको बिना स्टॉप-लॉस के कोई भी ट्रेडिंग नहीं करनी चाहिए।
  • मार्केट के उतार-चढ़ाव पर नज़र रखें: यदि आप इंट्राडे ट्रेडिंग से पैसा बनाना चाहते हैं; तो इसके लिए आपको बाजार के उतार-चढ़ाव पर फोकस रखना होगा; क्योंकि बिना मार्केट की चाल को समझें आप एक दिन के लिए मुनाफा कमा सकते हैं; हमेशा के लिए नहीं।
  • एक अच्छी ट्रेडिंग स्ट्रैटजी विकसित करें: लोगों का मानना है कि इंट्राडे ट्रेडिंग में पैसा बनने से ज्यादा पैसा डूबता है; लेकिन एक अच्छी स्ट्रैटजी और मार्केट की समझ से इस ट्रेडिंग में लगातार प्रॉफिट बनाया जा सकता है।

खुद को सीखने का मौका देते रहें: यदि आप इंट्राडे ट्रेडिंग में एक सफल ट्रेडर बनना चाहते हैं; तो इसके लिए आपको लगातार सीखने की जरूरत पड़ेगी; क्योंकि बिना सीखे अच्छा प्रॉफिट बनाना मुश्किल नहीं नामुमकिन है।

इंट्राडे ट्रेडिंग करने के फायदे क्या हैं?

इंट्राडे ट्रेडिंग करने के एक नहीं कई फायदे होते हैं; इस ट्रेडिंग में आपको बहुत कम समय में अच्छा प्रॉफिट कमाने की सहुलियत मिलती है; 
दूसरा फायदा यह है कि इंट्राडे ट्रेडिंग में बाजार की चाल बहुत तेज होती है; जिससे शेयरों को जल्दी से खरीदने और बेचने में मदद मिलती है; 
इंट्राडे ट्रेडिंग में सबसे अच्छी बात यह है कि इसमें शॉर्ट सेलिंग करके शेयर के दाम गिरने पर भी मुनाफा कमाया जा सकता है; इंट्राडे ट्रेडिंग में मार्केट में होने वाले शॉर्ट टर्म उतार-चढ़ाव से ही पैसा बनता है।

शेयर मार्केट में इंट्राडे ट्रेडिंग शुरू करने से पहले क्या करें?

इंट्राडे ट्रेडिंग शुरू करने से पहले मार्केट के बारे में अच्छी तरह से रिसर्च करें; मार्केट की समझ और एक अच्छी स्ट्रैटजी विकसित करें।
इंट्राडे ट्रेडिंग शुरू करने से पहले डेमो अकाउंट मतलब बिना पैसा लगाए ट्रेडिंग करने का अभ्यास करें; और जब आपको अनुभव होने लगे; तो फिर आप ट्रेडिंग शुरू करें; उससे पहले नहीं।
शुरू में आप थोड़े पैसे के साथ ट्रेडिंग करें; ज्यादा के चक्कर में ज्यादा नुकसान हो जाएगा; अनुभव होने पर ही ट्रेडिंग राशि बढ़ाएं; और रिस्क मैनेजमेंट के बिना ट्रेडिंग न करें।

क्या इंट्राडे ट्रेडिंग हर कोई कर सकता है?

अगर आपको जोखिम लेना पसंद है; तो आप इंट्राडे ट्रेडिंग करने का हाई रिस्क ले सकते हैं; अगर आप जोखिम लेने से डरते हैं; तो आप इंट्राडे ट्रेडिंग करने के बारे में न सोचें; आप लॉन्ग टर्म के लिए निवेश करें।

Leave a Comment