Index Funds vs Mutual Funds निवेश के लिए कौन है, बेस्ट?

आप याद रखिएगा – Index funds vs Mutual Funds दोनों ही इंवेस्टर्स के लिए कई तरह के Investment से जुड़े पोर्टफोलियो बनाने में सहायता करते हैं;

लेकिन याद रखिएगा कि इन दोनों में कुछ महत्वपूर्ण अंतर होते हैं; जो इंवेस्टर्स की Investment करने के लक्ष्य को हासिल करने के लिए सही विकल्प चुनने में मदद करते हैं;

तो चलिए पोस्ट में आगे बढ़ते हैं; और जानते हैं कि Index funds vs Mutual Funds में से कौन आपके लिए बेहतर विकल्प हो सकता है‌।

Index Funds vs Mutual Funds निवेश के लिए कौन है, अच्छा?

Index Funds vs Mutual Funds के बीच मुख्य अंतर क्या हैं?

पहला अंतर – Management Style – Index fund inactive तरीके से मैनेज किए जाते हैं, जिसका मतलब यह है कि वे एक विषेश Market index के परफॉरमेंस को ट्रैक करने का काम करते हैं;

जबकि Mutual fund active तरीके से मैनेज्ड होते हैं; जिसका अर्थ है कि फंड मैनेजर मार्केट को हराने की कोशिश करता है।

दूसरा अंतर – Investment Goal – Index fund आमतौर पर लॉंग टर्म Investment goals के लिए बेहतर होते हैं; वहीं म्यूचुअल फंड की बात करें; तो ये ज्यादा फ्लेक्सिबल होते हैं और ये हर तरह के Investment goal के लिए उचित हो सकते हैं।

तीसरा अंतर – लागत (Cost) – Index fund आमतौर पर म्यूचुअल फंड की तुलना में कम खर्च वाले होते हैं। इसका कारण यह है कि Index fund मैनेजरों को मार्केट को हराने की कोशिश में अधिक रिसर्च और एनालिसिस करने की जरूरत नहीं होती है।

चौथा अंतर – जोखिम (Risk) – Index fund और म्यूचुअल फंड दोनों ही जोखिम भरे Investment हो सकते हैं; लेकिन Index fund आमतौर पर म्यूचुअल फंड की तुलना में कम रिस्क वाले होते हैं; क्योंकि वे एक डायवर्सिफाइड पोर्टफोलियो में Investment करते हैं।

Index fund में Investment करने के क्या लाभ हैं, चलिए जानते हैं – 

पहला लाभ – कम लागत – Index fund आमतौर पर म्यूचुअल फंड की तुलना में कम लागत वाले होते हैं; और इसमें लंबी अवधि में निवेशकों को अधिक रिटर्न मिल जाता है।

दूसरा लाभ – लचीलापन – Index fund विभिन्न प्रकार के Investment लक्ष्यों को हासिल करने के लिए उचित हो सकते हैं; और ये लॉंग टर्म के निवेशकों के लिए खासतौर से फायदेमंद होते हैं।

तीसरा – सादगी – Index fund इंएक्टिव तरीके से मैनेज्ड होते हैं, इसलिए इन्हें मैनेज करना बहुत आसान होता है।

म्यूचुअल फंड में Investment करने के लाभ क्या है – 

पहला – अधिक लचीलापन – म्यूचुअल फंड विभिन्न प्रकार के Investment लक्ष्यों को हासिल करने के लिए अनुकूल हो सकते हैं; यह फंड Index fund की तुलना में अधिक विशिष्ट Investment क्षेत्रों में Investment करने के लिए एक बेहतर विकल्प होता है।

दूसरा – अधिक विविधता – म्यूचुअल फंड विभिन्न प्रकार की सिक्योरिटीज़ में Investment कर सकते हैं; जिससे निवेशकों को अपने रिस्क को कम करने में मदद मिल सकती है।

तीसरा – अधिक प्रोफेशनल मैनेजमेंट – म्यूचुअल फंड आमतौर पर प्रोफेशनल फंड मैनेजरों द्वारा मैनेज किए जाते हैं; इसलिए ये निवेशकों को अपने पोर्टफोलियो को बेहतर बनाने में मदद करते हैं।

अब बात आती है; इन दोनों में से किसमें Investment करना बेहतर होता है; चलिए जानते हैं – 

Index fund और म्यूचुअल फंड दोनों ही Investment के लिए बेहतरीन विकल्प हो सकते हैं; लेकिन यह महत्वपूर्ण है कि‌ निवेशकों को अपने Investment लक्ष्यों और रिस्क लेने की सहनशीलता के आधार पर सही विकल्प चुनना चाहिए।

लंबी अवधि के Investment लक्ष्यों वाले निवेशकों के लिए; Index fund आमतौर पर एक अच्छा विकल्प होता है; क्योंकि Index fund कम लागत वाले होते हैं; जिससे निवेशकों को लंबी अवधि में अधिक रिटर्न मिलता है।

इसके अलावा Index fund एक डायवर्सिफाइड पोर्टफोलियो प्रदान करता है; जो निवेशकों को अपने रिस्क को‌ मैनेज करने में मदद कर सकता है।

याद रखिएगा – ज्यादा लचीलेपन और विशिष्ट निवेश क्षेत्रों में Investment करने की इच्छा रखने वाले निवेशकों के लिए म्यूचुअल फंड एक बेहतर विकल्प हो सकता है; लेकिन यह ध्यान रखना भी महत्वपूर्ण है कि म्यूचुअल फंड आमतौर पर Index fund की तुलना में अधिक महंगे होते हैं।

अंततः, Index fund या म्यूचुअल फंड दोनों में से किसी एक को चुनना निवेशकों पर निर्भर करता है; इसलिए‌ निवेशकों को अपने Investment लक्ष्यों, रिस्क लेने की सहनशीलता और फाइनेंशियल कंडिशन पर विचार करना चाहिए।

चलिए जान लेते हैं – म्यूचुअल फंड के नुकसान क्या‌ हैं? 

म्यूचुअल फंड एक साथ कई कंपनियों में Investment करने का एक खास तरीका है; जिसका इस्तेमाल निवेशक अपने पैसे को एक साथ कई कंपनियों में निवेश करने के लिए करते हैं। 

आप इस बात को याद रखिएगा – म्यूचुअल फंड Investment करने का एक सुरक्षित और लोकप्रिय तरीका हो सकता है; लेकिन निवेश करने से पहले यहाँ नुकसान होने के कारण को समझ लेना आपके लिए फायदेमंद होगा। 

आज इस पोस्ट में, हम आपको Mutual fund में निवेश करने के नुकसान के बारे में अच्छे से बताएंगे और उनसे बचने का तरीके के बारे में भी चर्चा करेंगे; तो चलिए एक-एक कर इस बारे में जानते हैं।

  1. हर निवेश में रिस्क का होना आम बात है : म्यूचुअल फंड में निवेश करने वाला हर एक निवेशक मार्केट में होने वाले उतार-चढ़ाव का सामना करता है; और इससे म्यूचुअल फंड के नेट एसेट वैल्यू में परिवर्तन देखने को मिलता है; निवेशकों को इस रिस्क को अच्छे से समझने की‌ जरूरत होती है और उनके किए गए Investments कैसे परफॉर्म कर रहे हैं; इस बारे में जानने के लिए धीरे-धीरे निवेश करना चाहिए।
  2. निवेश लागत (Investment Cost) : म्यूचुअल फंड का मैनेजमेंट किसी एक फंड मैनेजर के हांथ में होता है, और वह इसके लिए Management fees और अन्य चार्ज जोड़ता है; जिसकी वजह से आपके निवेश करने की लागत बढ़ जाती है और आपके Investment पर मिलने वाला प्रॉफिट कम हो जाता‌ है; इसलिए मेरी मानिए; निवेश करने से पहले आपको अच्छी तरह से जांच-पड़ताल कर लेना चाहिए; फिर उसके बाद आप अपने चुने हुए म्यूचुअल फंड में निवेश करें।
  3. लिक्विडिटी की समस्या (liquidity problem) – म्यूचुअल फंड को निकालने के लिए कुछ लिमिटेड पीरियड की जरूरत हो सकती है; इसका अर्थ यह है कि आपको अपने निवेश किए गए पैसे को तुरंत निकालने में समस्या हो सकती है; खासकर तब, जब मार्केट में बुरा समय चल रहा हो; इसलिए आपको अपने फाइनेंशियल कंडिशन के आधार पर म्यूचुअल फंड का चुनाव करना चाहिए।
  4. कम निवेश करने के फायदे: म्यूचुअल फंड कम पैसे के साथ निवेश करने वाले निवेशकों के लिए बहुत लाभकारी होते हैं; लेकिन अगर आपके पास बड़ा अमाउंट है और आप बहुत जल्दी अपने पैसे को बढ़ाना चाहते हैं; तो म्यूचुअल फंड आपके लिए सही नहीं है; क्योंकि यहाँ निवेश करने पर आपके पैसे डूब सकते हैं।
  5. निवेशकों की अजागरूकता: कुछ निवेशक अपने Investment को लेकर अजागरूक नहीं होते हैं; और वे म्यूचुअल फंड की नीतियों, मैनेजरों, और नेट एसेट वैल्यू के बदलाव को नजरअंदाज कर देते हैं; जिसका परिणाम यह होता है कि वे अपने Investment को जोखिम में डाल देते हैं; अगर आप इस तरह के नुकसान से बचना चाहते हैं; तो आपको म्यूचुअल फंड की खास नीतियों और शर्तों को समझने की जरूरत पड़ेगी और यही नहीं आपको अपने Investment के मैनेजरों के कार्य प्रणाली पर नजर रखनी होगी।
  6. टैक्स का प्रभाव: म्यूचुअल फंड से मिलने वाले प्रॉफिट पर टैक्स का प्रभाव पड़ता है; इसलिए इसमें लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन करों, डीवीडेंड करों, और डीवीडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स शामिल हो सकते हैं। निवेशकों को अपने Investment पर लगने वाले टैक्स के नियम को समझने की जरूरत होती है 
  7. इकोलॉजी समस्याएँ: मार्केट में इकोलॉजी समस्याएँ, जैसे कि आर्थिक संकट, पॉलिटिकल परिवर्तन‌ और‌ भी विभिन्न प्रकार की गैर-सरकारी कार्रवाइयाँ, म्यूचुअल फंड पर प्रभाव डाल सकती हैं; इसलिए निवेशकों को इस प्रकार की समस्याओं के बारे में जागरूक रहना चाहिए और‌ उन्हें अपने Investment निर्णयों को मार्केट के उतार-चढ़ाव के साथ समझने की कोशिश करनी होगी।

जैसा कि हमने आपको म्यूचुअल फंड में निवेश करने के नुकसान के बारे में बताया; लेकिन आप यह याद रखिएगा – म्यूचुअल फंड भी एक‌ निवेश करने का एक बेहतरीन और सुरक्षित तरीका है, खासकर तब, जब आप इसे ध्यानपूर्वक और जितना हो सके उतने अच्छे तरीके से मैनेज करते हैं। 

यदि आप इस क्षेत्र में नए हैं; तो आपको अपने निवेश के लिए सावधानी बरतने और वित्तीय सलाहकार की सलाह लेने की जरूरत होती है; ताकि आप निवेश करने अच्छे निर्णय ले सकें और फाइनेंशियल फ्रीडम को‌ हासिल करने में सफल हो सकें‌। 

इसे भी पढ़ें : म्यूचुअल फंड के कितने प्रकार होते हैं?

इंडेक्स फंड और म्यूचुअल फंड में क्या अंतर है?

म्यूचुअल फंड ऐक्टिवली मैनेज्ड और पैसिवली मैनेज्ड फंड्स का एक बहुत बड़ा ग्रूप है; जबकि इंडेक्स फंड्स पैसिवली मैनेज्ड होते हैं; मतलब ये किसी मार्केट इंडेक्स, जैसे, सेंसेक्स या निफ्टी को ट्रैक करते हैं।

क्या इंडेक्स फंड निवेश के लिए सही हैं?

हाँ, बिल्कुल है; लेकिन इंडेक्स फंड में निवेश करना; यह आपके निवेश लक्ष्यों और जोखिम लेने की सहनशीलता पर डिपेंड करता है; इंडेक्स फंड कम लागत, लंबी अवधि के लिए निवेश का एक अच्छा ऑप्शन हो सकता है।

इंडेक्स फंड्स का खर्च अनुपात कितना होता है?

इंडेक्स फंड्स का कम खर्च अनुपात बहुत कम होता है; इनके खर्च अनुपात 0.5% से भी कम हो सकते हैं; जबकि ऐक्टिवली मैनेज्ड फंड्स के खर्च अनुपात इंडेक्स फंड्स खर्च अनुपात 1% से 2% या उससे ज्यादा होते हैं।

मैं इंडेक्स फंड और म्यूचुअल फंड कहां से खरीद सकता हूं?

आप इंडेक्स फंड और म्यूचुअल फंड ऑनलाइन या किसी फाइनेंशियल एडवाइजर से‌ अलग-अलग म्यूचुअल फंड कंपनी के इंडेक्स फंड या अन्य फंड्स भी खरीद सकते हैं।

क्या इंडेक्स फंड पूरी तरह से सुरक्षित हैं?

नहीं, इंडेक्स फंड पूरी तरह से सुरक्षित नहीं है; क्योंकि बाजार के उतार-चढ़ाव का असर इंडेक्स फंड्स पर भी पड़ता है; याद रखें; कोई भी निवेश बिना रिस्क के नहीं होता।

Leave a Comment