कम पैसे के साथ ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करते हैं ?

आज इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे कि कम पैसे के साथ ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करते हैं; इस पोस्ट को ध्यान से पढ़िए और सीखिए।

कम पैसे के साथ ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करते हैं ?

चलिए जानते हैं – कम पैसे के साथ ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करते हैं?

कम पैसे के साथ ऑप्शन ट्रेडिंग करना मुश्किल हो सकता है, लेकिन यह नामुमकिन नहीं है; बस आपको करना यह है कि आप इस पोस्ट में बताए जा रहे कुछ महत्वपूर्ण बातों को ध्यान से पढ़ लीजिए –

पहली बात – आप कम जोखिम वाले ऑप्शन स्ट्रैटेजी का उपयोग करें – कम जोखिम वाले ऑप्शन स्ट्रैटेजी से मतलब है कि आप अपने जोखिम को कम करने के लिए कई अलग-अलग ऑप्शन खरीदते हैं। 

उदाहरण के लिए, एक कवर कॉल स्ट्रैटेजी में, आप एक कॉल ऑप्शन खरीदते हैं और फिर उसी संख्या में शेयर भी खरीदते हैं; यह आपको नुकसान से बचाता है अगर शेयर की कीमत आपकी उम्मीद से नीचे चला जाए।

दूसरी बात – आप कम स्ट्राइक प्राइस वाले ऑप्शन खरीदें – इस तरह के ऑप्शन ज्यादा महंगे नहीं होते हैं; इसलिए आप अपने जोखिम को कम करने के लिए इनका इस्तेमाल कर सकते हैं। 

लेकिन आप यह भी ध्यान रखिएगा कि कम स्ट्राइक प्राइस वाले ऑप्शन के प्रीमियम में अधिक उतार-चढ़ाव देखने को मिल सकता है; और कभी-कभी आपको नुकसान भी हो सकता है।

तीसरी बात – आप कम समय सीमा वाले ऑप्शन खरीदें – इस तरह के ऑप्शन ज्यादा महंगे नहीं होते हैं, इसलिए ये जोखिम को कम करने में भी मदद कर सकते हैं; इसका कारण यह है कि आपके पास कम समय होता है कि ऑप्शन का मूल्य आपके खिलाफ चला जाए।

चौथी बात – आप अपने रिसर्च खुद करें – ऑप्शन ट्रेडिंग में सफल होने के लिए, आपको उन कंपनियों और इंडेक्स के बारे में रिसर्च करने की जरूरत पड़ती है; जिनमें आप निवेश कर रहे हैं। 

आपको बाजार के ट्रेंड्स और इकोनॉमिक फैक्टर्स का भी अनुमान लगाने की आवश्यकता होती है; जो ऑप्शन की कीमतों को प्रभावित कर सकते हैं।

आप अपने हारने की स्ट्रैटेजी पर विचार करें; हर ट्रेडर को ट्रेडिंग करते समय नुकसान का सामना करना पड़ता है; इसलिए यह जरुरी है कि आप अपने हारने की स्ट्रैटेजी पर विचार करें;

आप अपना नुकसान सीमित करने के लिए नुकसान पर बंद करने या स्क्रिप्ट को बेचने की योजना बना सकते हैं।

आप इस बात को याद रखिएगा – कम पैसे के साथ ऑप्शन ट्रेडिंग करना एक चुनौती हो सकती है; लेकिन कम पैसे के साथ अच्छा प्रॉफिट मिलने की भी संभावना रहती है;

बस आपको यहाँ बताई गई बातों का ध्यान रखने और जोखिम को कम करने के लिए स्ट्रैटेजी का उपयोग करने की आवश्यकता होती है । 

ऑप्शन ट्रेडिंग में कितना चार्ज लगता है ?

ऑप्शन ट्रेडिंग में दो प्रकार के चार्ज लगते हैं:

  • पहला –  ब्रोकरेज चार्ज: यह चार्ज ब्रोकर द्वारा ऑप्शन ट्रेड करने के लिए लिया जाता है। यह आमतौर पर ट्रेड की जाने वाली पूंजी के आधार पर होता है।
  • दूसरा – प्रीमियम चार्ज : यह चार्ज ऑप्शन खरीदने के लिए लिया जाता है। यह ऑप्शन के प्रकार, एक्सपायरी डेट और स्टॉक के प्राइस पर निर्भर करता है।

देखा जाए तो ब्रोकरेज चार्ज आमतौर पर 0.05% से 0.2% के बीच होता है। प्रीमियम की राशि ऑप्शन के प्रकार, एक्सपायरी डेट और स्टॉक के प्राइस पर निर्भर करती है।

इंडिया में ऑप्शन ट्रेडिंग के लिए कुछ लोकप्रिय ब्रोकर इस प्रकार हैं :

इन ब्रोकरों द्वारा ऑफर किए जाने वाले ब्रोकरेज चार्ज और प्रीमियम की राशि अलग-अलग होती है; इसलिए ऑप्शन ट्रेडिंग शुरू करने से पहले, अलग-अलग ब्रोकरों की तुलना करना जरूरी है।

ऑप्शन ट्रेडिंग में निवेश करने से पहले आपको यहाँ होने वाले रिस्क के बारे में भी जानकारी होना चाहिए; आप याद रखें – ऑप्शन ट्रेडिंग में नुकसान की संभावना बहुत ज्यादा होती है; इसलिए यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि आप ऑप्शन ट्रेडिंग से जुड़े रिस्क को अच्छे से समझते हैं।

चलिए जान लेते हैं – ऑप्शन ट्रेडिंग करने के क्या फायदे हैं – 

ऑप्शन ट्रेडिंग करने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि यहाँ होने वाला नुकसान आपके कंट्रोल मे रहता है; लेकिन प्रॉफिट अनलिमिटेड होता है। 

मेरे कहने का मतलब यह है कि अगर आप एक हज़ार रुपये लगाकर कोई ऑप्शन खरीदते हैं; तो आपको सिर्फ एक हज़ार रुपए का नुकसान होने की संभावना है; जबकि प्रॉफिट होने की संभावना अनलिमिटेड है।

आप याद रखिएगा – ऑप्शन ट्रेडिंग करते समय अगर आपका एनालिसिस बिल्कुल सही है; तो आपका एक हज़ार रुपये कुछ समय बाद दस हज़ार रुपये में बदल जाएगा;

आप मेरी इस बात पर विश्वास नहीं करेंगे कि इस ट्रेडिंग में आपका एक हज़ार रुपए एक लाख में भी बदल सकता है या उससे ज्यादा भी हो सकता है।

इस बात पर ध्यान दीजिए – कम पैसों में अधिक क्वांटिटी पर ट्रेड कर पाने का विकल्प केवल ऑप्शन ट्रेडिंग में ही मिलता है।

आप याद रखिएगा – अगर शेयर आपके भविष्यवाणी के अनुसार मूव करता है; तो आप कम पैसे के निवेश से भी बहुत ज्यादा पैसा कमा सकते हैं; ऐसा सिंपल ट्रेडिंग में कभी संभव नहीं है।

ऑप्शन ट्रेडिंग में कितना रिस्क होता है?

आप याद रखें – ऑप्शन ट्रेडिंग में बहुत ज्यादा रिस्क होता है; ऑप्शन ट्रेडिंग में आप एक निश्चित मूल्य पर शेयर का एक लॉट खरीदने या बेचने का अधिकार खरीदते हैं। यदि ट्रेडिंग करते समय आपका अनुमान सही होता है, तो आप ऑप्शन को एक्सपायरी पर बेचकर मुनाफा कमा सकते हैं;

यदि आपका अनुमान गलत होता है, तो आप ऑप्शन को एक्सपायरी डेट पर बेचकर अपना पैसा गंवा सकते हैं।

ऑप्शन ट्रेडिंग में रिस्क के कुछ प्रमुख कारण इस प्रकार होते हैं:

  • शेयरों की कीमतों में उतार-चढ़ाव: ऑप्शन ट्रेडिंग में, आप एक निश्चित मूल्य पर एक स्टॉक खरीदने या बेचने का अधिकार खरीदते हैं। यदि स्टॉक की कीमत आपके रिसर्च के अनुसार न तो बढ़ती है और नहीं घटती है, तो आप अपना पैसा खो सकते हैं।
  • समय मूल्य (Time Value) : ऑप्शन का मूल्य समय के साथ घटता रहता है; यदि आप अपने खरीदे गए ऑप्शन को जल्दी नहीं बेचते हैं, तो आप अपना पैसा डूबा सकते हैं।
  • विपणन अस्थिरता: यदि शेयर बाजार अस्थिर होता है, तो ऑप्शन की कीमतें तेजी से बढ़ सकती हैं या घट सकती हैं; इससे आपका जोखिम बढ़ सकता है।

ऑप्शन ट्रेडिंग में नुकसान की संभावना को कम करने के लिए, आपको इन बातों का ध्यान रखना चाहिए:

  • खुद रिसर्च करें: ऑप्शन ट्रेडिंग शुरू करने से पहले, आपके पास शेयर मार्केट और ऑप्शन ट्रेडिंग के बारे में अच्छी जानकारी होनी चाहिए।
  • अपने रिस्क को मैनेज करें: अपने रिस्क को कम करने के लिए, आप अपने निवेश को विविधता प्रदान कर सकते हैं और और निवेश करते समय स्टॉप-लॉस ऑर्डर सेट कर सकते हैं।
  • अनुभवी लोगों से सलाह लें: यदि आप ऑप्शन ट्रेडिंग के बारे में अधिक जानना चाहते हैं, तो आप किसी वित्तीय सलाहकार से बात अवश्य करें।

इसे भी पढ़ें : शेयर बाजार में पैसा कैसे कमाया जाता है?

क्या कम पैसे में ऑप्शन ट्रेडिंग करना संभव है?

हाँ, बिल्कुल! आप कम पैसे में भी ऑप्शन ट्रेडिंग कर सकते हैं; लेकिन ट्रेडिंग करने से पहले आप अपने रिस्क लेने की क्षमता को अच्छे से समझ लें; क्योंकि यह एक हाई प्रॉफिट और हाई रिस्क वाला ट्रेडिंग है; इसलिए आप सही स्ट्रैटजी और रिस्क मैनेजमेंट के साथ ट्रेडिंग करें; चाहे आपके पास पैसा ज्यादा हो या कम।

कम पूंजी के लिए कौन सी ऑप्शन स्ट्रैटजी सही है?

आप अगर ऑप्शन ट्रेडिंग में नए हैं; तो आपको छोटे प्रॉफिट के लिए छोटे ट्रेड लेने चाहिए; आप बहुत ज्यादा प्रॉफिट के लालच में न पड़ें; वरना आप अपने जोखिम को बहुत ज्यादा बढ़ा लेंगे; 
आप हमेशा ट्रेडिंग एटीएम (एट द मनी) या नियर एटीएम स्ट्राइक प्राइस पर ही करें; क्योंकि इससे आपका प्रीमियम कम रहेगा और ज्यादा मार्जिन की आवश्यकता नहीं होगी।

ऑप्शन ट्रेडिंग शुरू करने से पहले क्या बातें सीखनी चाहिए?

ऑप्शन ट्रेडिंग शुरू करने से पहले आपको इससे जुड़ी बेसिक्स बातों को अच्छे से सीखना होगा; जैसे – कॉल, पुट, स्ट्राइक प्राइस, एक्सपायरी, 
इसके साथ ही आपको डेल्टा, गामा, थेटा और वीगा ट्रेडिंग में काम कैसे करते है; इसको अच्छे से समझें; सबसे बड़ी बात रिस्क मैनेजमेंट में स्टॉप-लॉस आर्डर लगाना और पोजीशन साइजिंग पर कंट्रोल करना सीखें।

पैसे को बढ़ाने के लिए बेस्ट टिप्स क्या है?

पैसा बढ़ाने के लिए आपको कंसिस्टेंट रहना होगा; आप कभी भी जल्दी बहुत ज्यादा पैसा बनाने की लालच में शॉर्टकट न लें; आप हर दिन बचत करने के अभ्यास से ही पैसे को बढ़ा सकते हैं; वरना आपके लिए और कोई दूसरा रास्ता नहीं है; याद रखें।

Leave a Comment