स्विंग ट्रेडिंग क्या है और इससे पैसे कैसे बनाते हैं ?

आज इस पोस्ट में आप जानेंगे कि शेयर मार्केट में स्विंग ट्रेडिंग क्या है (swing trading kya hai) और इससे ढे़र सारे पैसे कैसे बनते हैं; चलिए हम इस पोस्ट में सब कुछ ध्यान से समझते हैं –

स्विंग ट्रेडिंग क्या है और इससे पैसे कैसे कमाए?

शेयर मार्केट में स्विंग ट्रेडिंग क्या है (Swing Trading Kya Hai) और ट्रेडर्स इससे पैसे कैसे बनाते हैं ?

स्विंग ट्रेडिंग शेयर मार्केट में एक तरह की सट्टा ट्रेडिंग होती है, जिसमें एक या अधिक दिनों के लिए एक ट्रेड क्वालिफ़ाईड प्रॉपर्टी को अपने पास होल्ड करके रखा जाता है;

आप इस बात को हमेशा याद रखिएगा – स्विंग ट्रेडिंग पोजीशन आमतौर पर वनडे ट्रेडिंग पोजीशन से ज्यादा समय तक होती है; लेकिन इसे बाकी इंवेस्टमेंट की तरह महीनों या वर्षों तक होल्ड करके रखा नहीं जा सकता है।

आपको इस बारे में पता होना चाहिए कि स्विंग ट्रेडर्स आमतौर पर टेक्निकल एनालिसिस का इस्तेमाल करके मार्केट के ट्रेंड की पहचान करते हैं; और उन ट्रेंड्स के आधार पर ट्रेडिंग करते हैं;

और यही नहीं इसके साथ वे इंडिकेटर जैसे कि सपोर्ट और रेजिस्टेंस, मूविंग एवरेज, और चार्ट पैटर्न का इस्तेमाल करते हैं।

आपको पता होना चाहिए – स्विंग ट्रेडिंग एक जोखिम भरा इंवेस्टमेंट स्ट्रैटजी है; क्योंकि यह ट्रेडिंग मार्केट की अस्थिरता के अधीन होती है; 

आप इस बात को कभी मत भूलिएगा – स्विंग ट्रेडर्स को अपने रिस्क को कम करने के लिए एक मजबूत रिस्क मैनेजमेंट स्किल की जरूरत पड़ती है; जैसे कि स्टॉप-लॉस ऑर्डर का सही तरीके से इस्तेमाल करना।

स्विंग ट्रेडिंग करने के फायदे क्या हैं?

स्विंग ट्रेडिंग करने का पहला फायदा यह है कि डे ट्रेडिंग की तुलना में प्रॉफिट निकलने में कम समय ले सकता है; और इसके साथ ही स्विंग ट्रेडिंग करते समय बाजार को बार-बार ट्रैक करने की आवश्यकता नहीं पड़ती है।

दूसरा फायदा यह है कि यह बाकी ट्रेडिंग की तुलना में कम जोखिम भरा हो सकता है; ऐसा इसलिए क्योंकि स्विंग ट्रेडर्स आमतौर पर लंबी अवधि के लिए अपने ट्रेड को खुला रखते हैं।

तीसरा फायदा – यह बाकी ट्रेडिंग की तुलना में अधिक प्रॉफिट दे सकता है; क्योंकि स्विंग ट्रेडर्स को बाजार में अधिक बड़े ट्रेंड्स से लाभ उठाने का मौका मिलता है।

स्विंग ट्रेडिंग करने के नुकसान क्या है:

आप तो अच्छे से जानते हैं कि जहाँ लाभ है, वहीं नुकसान भी है; तो चलिए स्विंग ट्रेडिंग में होने वाले नुकसान को भी समझ लेते हैं – 

स्विंग ट्रेडिंग करने का पहला नुकसान जो आप को होगा वह यह है कि डे ट्रेडिंग की तुलना में अधिक रिस्क उठाना पड़ सकता है; क्योंकि स्विंग ट्रेडर्स बाजार में अधिक लंबे समय तक अपने ट्रेड को खुला रखते हैं।

दूसरा नुकसान – यह बाकी ट्रेडिंग की तुलना में अधिक समय लेने वाली हो सकती है; क्योंकि स्विंग ट्रेडर्स को अपने ट्रेडों की मॉनिटरिंग और मैनेजिंग के लिए अधिक समय की जरूरत होती है।

आप इस बात को याद रखिएगा – स्विंग ट्रेडिंग एक प्रभावी इंवेस्टमेंट स्ट्रेटेजी हो सकती है; और साथ ही यह उन निवेशकों के लिए सबसे अच्छा है; जो बाजार के ट्रेंड्स को पहचानने और रिस्क मैनेजमेंट की योग्यता रखते हैं।

स्विंग ट्रेडिंग से पैसे कमाने के लिए आपको कौन-कौन से स्टेप लेने हैं?

  • पहला स्टेप – एक ट्रेडिंग खाता खोलें – स्विंग ट्रेडिंग करने के लिए आपको एक ट्रेडिंग ब्रोकर के साथ एक ट्रेडिंग खाता खोलना होगा; क्योंकि इसके बिना आप शेयर मार्केट में ट्रेडिंग नहीं‌ कर सकते हैं।
  • दूसरा स्टेप – खुद रिसर्च करें – स्विंग ट्रेडिंग करने के लिए आपको बाजार के ट्रेंड्स को पहचानने के लिए टेक्निकल एनालिसिस की जानकारी होनी चाहिए; इसके साथ ही आपको चार्ट पैटर्न, मूविंग एवरेज और सपोर्ट और रेजिस्टेंस लेवल जैसे इंडिकेटर का उपयोग करने आना चाहिए।
  • तीसरा स्टेप – आप अपनी खुद की स्ट्रेटेजी विकसित करें – एक बार जब आप बाजार के ट्रेंड्स को पहचानने के तरीके सीख लेते हैं; तो आपको एक अलग और बेहतरीन स्ट्रेटेजी विकसित करनी होगी; और इसके साथ ही आपको यह तय करना होगा कि आप किस प्रकार की प्रॉपर्टी में ट्रेड करना चाहते हैं, और किस प्रकार के ट्रेडिंग इंडिकेटर का इस्तेमाल करेंगे; और सबसे बड़ी चीज़ आप अपने रिस्क को कैसे मैनेज करेंगे।
  • चौथा स्टेप – एक बार जब आप अपनी खुद की स्ट्रेटेजी विकसित कर लेते हैं, तो आपको अपनी स्ट्रेटेजी के अनुसार किसी ट्रेडिंग ब्रोकर के प्लेटफॉर्म का उपयोग करके ट्रेड लेना करना शुरू कर देना चाहिए; 
  • पांचवा स्टेप – अपने ट्रेडों की निगरानी करें – एक बार जब आप ट्रेडिंग करना शुरू कर देते हैं, तो आपको इसकी निगरानी करनी होगी; ताकि आप यह सुनिश्चित कर सकें कि आप अपने जोखिम को किस तरह से नियंत्रण में रख रहे हैं; इसके साथ ही आपको अपने स्टॉप-लॉस ऑर्डर को अपडेट करते रहना चाहिए।

इसे भी पढ़ें : शेयर मार्केट कैसे काम करता है ?

स्विंग ट्रेडिंग और इंट्राडे ट्रेडिंग में क्या अंतर है?

स्विंग और इंट्राडे ट्रेडिंग में सिर्फ इतना अंतर होता है कि इंट्राडे ट्रेडिंग करते समय आपको अपने शेयरों को एक ही दिन के अंदर मतलब सुबह 9:15 से दोपहर 3:15 के बीच में खरीदना और बेचना होता हैं; जबकि स्विंग ट्रेडिंग में आप अपने शेयरों को कुछ दिनों के लिए या कुछ हफ्तों के लिए रखना होता है।

स्विंग ट्रेडिंग के लिए कौन सा स्टॉक सबसे अच्छा है?

अगर आप स्विंग ट्रेडिंग के लिए सबसे अच्छा सटॉक्स ढूंढ रहे हैं, तो आपके लिए मजबूत टेक्निकल सिग्नल वाले स्टॉक अच्छे विकल्प हो सकते हैं; इनमें तेजी से बढ़ते स्टॉक, स्ट्रॉंग सपोर्ट और रेसिस्टेंस लेवल वाले स्टॉक होते हैं।

स्विंग ट्रेडिंग के लिए कितना पूंजी चाहिए?

स्विंग ट्रेडिंग के लिए न्यूनतम राशि के लिए कोई नियम नहीं है; आप थोड़े पैसे से भी शुरुआत कर सकते हैं; लेकिन ज्यादा पैसा होने से आप ज्यादा शेयर खरीद सकते हैं और ज्यादा प्रॉफिट कमा सकते हैं।

Leave a Comment